अफ्रीका का बँटवारा और उपनिवेशवाद (Colonialism in Africa) [PART-II]

africa me upniveshwad

अफ्रीका का बँटवारा और अफ्रीका में उपनिवेशवाद को पहले भाग में बेसिक स्तर से बताया गया है। यह दूसरा भाग साम्राज्यवादी लालच, युद्ध और प्रतिद्वंदिता के बाद अफ्रीका के बँटवारे को बताता है। PLEASE FOLLOW ON INSTAGRAM 👉️@mehra_ankita9 अफ्रीका का बँटवारा, लूट और सीधी रेखाएं बर्लिन सम्मलेन,1885 के प्रावधानों ने केवल आने वाले 15 वर्ष … Read more

अफ्रीका का बँटवारा और उपनिवेशवाद (Colonialism in Africa)[PART-I]

colonialism in Africa in Hindi

अफ्रीका का बँटवारा और अफ्रीका में उपनिवेशवाद (Colonialism in Africa) कहानी लालच और मानव भेदभाव को बताती है। जहाँ युरोपियन द्वारा अफ्रीका के संसाधनों की लूट के साथ साथ मानव व्यापर और रंगभेद की नीतियो ने पुरे विश्व इतिहास को प्रभावित किया था। PLEASE FOLLOW ON INSTAGRAM 👉️@mehra_ankita9 यहाँ के अश्वेत लोग जो सुदूर जंगलो … Read more

आग्सबर्ग की संधि (Augsburg ki sandhi) और धार्मिक युद्धों का सीमित विराम

आग्सबर्ग की संधि (Augsburg ki sandhi) और धार्मिक युद्धों का सीमित विराम

आग्सबर्ग की संधि (Treaty of Augsburg) जर्मनी और यूरोप में धार्मिक युद्धों का विराम था जो मार्टिन लूथर के ईसाई धर्म में क्रन्तिकारी सुधारों की मांग की पराकाष्ठा थी। मार्टिन लूथर जो स्वयं एक पादरी था लेकिन उसने ईसाई धर्म में उस समय चल रहे आडम्बरों को अपने तर्कों से काट दिया था जिस कारण … Read more

अलाउद्दीन खिलजी [Alauddin Khilji]

अलाउद्दीन खिलजी, Alauddin Khilji

अलाउद्दीन खिलजी [Alauddin Khilji] दिल्ली सल्तनत में एक महान शासक था जिसने अपनी महत्वकांशाओ के चलते दक्षिण भारत तक अपना साम्राज्य फैला लिया था। खिलजी दिल्ली सल्तनत में भारतीय मुसलमान थे जो प्रसिद्ध खिलजी क्रांति से उभरे और काफी लम्बे समय तक भारतीय इतिहास पर छाए रहे PLEASE FOLLOW ON INSTAGRAM 👉️@mehra_ankita9 अलाउद्दीन खिलजी कौन … Read more

आमिर खुसरो [Amir Khusrau]

आमिर खुसरो ,Amir Khusrau

आमिर खुसरो (Amir Khusrau) मध्यकालीन भारत में एक ऐसे विशेष व्यक्तितव है जो अपनी शानदार कला और राजनीतिक कारणों से जाने जाते है। आमिर खुसरो मध्यकालीन भारत में संगीत, गायन, कविताओं, साहित्य और नवाचार और भक्ति के एक केंद्र बिंदु है। यह पेशे से कोई इतिहासकार या कलाकार नहीं थे फिर भी इनमे काफी ऐसे … Read more

1991 का भुगतान संतुलन का संकट [Balance of Payment Crisis]

Balance of Payment Crisis, BHUGTAN SANTULAN KA SANKAT

1991 का भुगतान संतुलन का संकट (Balance of Payment Crisis) भारत के लिए एक बड़ा खतरा था। भारत में कुछ दिनों का ही विदेशी रिज़र्व बचा था। ऐसे में अर्थव्यवस्था एक ऐसे मोड़ पर आ गयी थी जहाँ भारत को नए प्रयोग करने पड़े और अन्तराष्ट्रीय प्रणालियों से तालमेल बैठना पड़ा। ऐसा आर्थिक संकट भारत … Read more

त्रिपुरी अधिवेशन, 1939 – QnAs

tripuri session 1939

त्रिपुरी अधिवेशन,1939 में कांग्रेस में आंतरिक संकट आ गया था यह ठीक वैसा ही था जब सूरत अधिवेशन, 1907 में कांग्रेस में दो समूह उभर आकर बँट गए थे। त्रिपुरी अधिवेशन के समय कांग्रेस में मजबूत वामपंथी और समाजवादियों का ग्रुप मजबूत बन चूका था। जिसका नेतृत्व जवाहर लाल नेहरू और नेताजी सुभाष चंद्र बोस … Read more

भारत में पंचायती राज प्रणाली [Panchayati Raj System – FAQs]

pri system in india

भारत में पंचायती राज प्रणाली ( Panchayati Raj System) और ग्राम आत्मनिर्भरता का अनुभव प्राचीन काल से रहा है जैसे उत्तरमेरूर अभिलेख में तमिलनाडू के प्राचीन ग्रामो में वारियाम समितियों द्वारा निर्णय लिए जाते थे लेकिन संवैधानिक ग्रामीण स्वायत्तता की शुरुआत भारत में औपनिवेशिक काल से शुरू हो गयी थी जो महात्मा गाँधी के स्वराज … Read more