3D मैपिंग (3D Mapping) क्या है ? [UPSC GK]

3D मैपिंग (3D Mapping) क्या है ? [UPSC GK]

3D मैपिंग, आधुनिक तकनीक का एक और अजूबा, कार्टोग्राफी के क्षेत्र में एक विजन तकनीक है। हम पहले से ही 2D मानचित्र और 3D दृष्टि से परिचित हैं, यह कल्पना करना कठिन नहीं है कि 3D मानचित्र कैसा दिखता है ?

3डी मैपिंग क्या है ?

3डी मैपिंग (3D Mapping) का अर्थ है वस्तुओं को वास्तविक दुनिया में मैप करने के लिए तीन आयामों में वस्तुओं की रूपरेखा बनाना। मतलब 3d मैपिंग में वस्तुओं को त्रिविमीय रूप देना होता है ताकि किसी भी वस्तु का वास्तविक दृश्य स्वरूप पता लगाया जा सके।

3डी मैपिंग का लाभ

3D मैपिंग (3D Mapping) का एक सबसे अच्छा लाभ यह है कि यह विज़ुअलाइज़ेशन और जानकारी एकत्र करने के लिए नवीनतम तकनीकी द्वारा जानकारियाँ प्रदान करता है। वस्तु/क्षेत्र के अध्ययन के लिए 3डी नक्शा उपलब्ध होने पर ज्ञान दृश्य मानचित्रण (Visualized Mapping)आसान हो जाता है।

3डी मैपिंग (3D Mapping) क्या है ? [UPSC GK]

एक 3D नक्शा एक स्थान का वास्तविक दृश्य प्रदान करता है जिसका उपयोग स्थानीय अधिकारियों और योजनाकारों द्वारा किया जा सकता है। निर्माण क्षेत्र के लिए 3डी मैप उतना ही उपयोगी है जितना कि ब्लूप्रिंट। 3डी मानचित्र पर योजनाओं की कल्पना करना और निर्माण के दौरान होने वाली संभावित बाधाओं की पहचान करना बहुत आसान है।

जब आपके सामने एक 3D नक्शा होता है, तो आप असीमित कल्पना की दुनिया में प्रवेश करते हैं जहां आप अंतिम आउटपुट से पहले कई दृश्य प्रभावों के साथ प्रयोग कर सकते हैं। विमान की स्थिति निर्धारित करने से लेकर प्रक्षेपण मानचित्रण के साथ अपने कार्यक्रम को खास बनाने तक, 3डी मैपिंग एक जादुई आंख की तरह काम कर रही है।

3डी नक्शा कैसे तैयार होता है ?

3डी मैपिंग को “प्रोजेक्शन मैपिंग (Projection Mapping)” या “वीडियो मैपिंग (Video Mapping)” के रूप में भी जाना जाता है। 3डी मैपिंग को “स्थानिक संवर्धित वास्तविकता” (Spatial Augmented Reality) भी कहते हैं।

प्रोजेक्शन मैपिंग के लिए एक ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है जो किसी भी सतह को डायनेमिक विजुअल डिस्प्ले में बदल सकती है। हालांकि कई तरीके एक ही प्रभाव पैदा कर सकते हैं लेकिन कुछ कंप्यूटर एनिमेशन के साथ 2डी या 3डी डेटा का संयोजन आवश्यक डिटेल्स को उजागर कर सकता है।

प्रोजेक्शन के दो मॉडल है:

3डी मैपिंग, जिसे फोटोग्रामेट्री मैपिंग के रूप में भी जाना जाता है:

  • एरियल फोटोग्रामेट्री (Aerial Photogrammetry): छवियों का निर्माण करने के लिए एक ड्रोन (या विमान) का उपयोग किया जाता है जो ड्रोन से ली गयी तस्वीरों सॉफ्टवेयर द्वारा को 3D Image में बदल देता है।
  • क्लोज रेंज फोटोग्रामेट्री (Close range photogrammetry): तब होती है जब छवियों को हैंडहेल्ड कैमरे का उपयोग करके या तिपाई पर लगे कैमरे के साथ कैप्चर किया जाता है।

3डी मैपिंग के उपयोग

  • भूमि प्रबंधन
  • कार्टोग्राफी
  • शहरी नियोजन
  • सटीक क्षेत्र माप
  • भण्डारण में सामान या माल की मात्रा को नापने के लिए

बीएमसी द्वारा 3डी मैपिंग:

मुंबई में बढ़ती शहरी समस्या को देखते हुए 3D मैपिंग की गयी है जो शहर को और बारीकी से जानने में मदद करेगा। साथ साथ प्रतिवर्ष बाढ़ या तूफानों से निपटने में आपदा प्रबंधन के काम आएगा।

3डी मैपिंग में विज्ञान से लेकर मनोरंजन और विज्ञापन तक विभिन्न क्षेत्रों में कई अनुप्रयोग हैं।

यह आर्टिकल आधिकारिक स्त्रोत जैसे प्रमाणित पुस्तके, विशेषज्ञ नोट्स आदि से बनाया गया है। निश्चित रूप से यह सिविल सेवा परीक्षाओ और अन्य परीक्षाओ के लिए उपयोगी है।

READ MORE AND FOLLOW US


Leave a Comment

Your email address will not be published.