RTGS कोर बैंकिंग सॉलूशन्स (Core Banking Solutions ) की एक सुविधा है जिसमे बड़े स्तर पर भारतीय अर्थव्यवस्था को फायदा पहुंचाया है और बैंको के ऊपर भी अनावश्यक कार्यभार को कम किया है . RTGS एक रियल टाइम इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम है जिसमे फंड जो 2 लाख के ऊपर हो आसानी से भेजा जा सकता है. इसे कोई भी अपने इंटरनेट बैंकिंग से भी घर बैठे कर सकता है

रेटिंग आर्टिकल की उपयोगिता को बताते है जो विभिन्न यूजर ने दिए है

क्या होता है RTGS ?download here

‘RTGS’ रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट के लिए है, जिसे एक ऐसी प्रणाली के रूप में समझाया जा सकता है जिसमें फंड ट्रांसफर बिना नकद के लेन-देन वास्तविक समय (Real Time ) में होता है।

RTGS का उपयोग करने के क्या लाभ हैं ?download here

आरटीजीएस धन हस्तांतरण पर कई लाभ प्रदान करता है:

  • यह धन हस्तांतरण के लिए एक सुरक्षित प्रणाली है।
  • आरटीजीएस लेन-देन / स्थानांतरण में कोई राशि सीमा नहीं है।
  • यह प्रणाली 24x7x365 के आधार पर सभी दिनों में उपलब्ध है।
  • पैसे भेजने वाले को या रिमिटर (remitter) को किसी भौतिक साधन या डिमांड ड्राफ्ट का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है।
  • पैसे पाने वाले या रिसीवर को दस्तावेज को जमा करने के लिए बैंक शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं है।
  • पैसे पाने वाले या रिसीवर को भौतिक साधनों की हानि / चोरी या उसके द्वारा किए गए कपटपूर्ण नकदीकरण की संभावना के बारे में आशंकित नहीं होना चाहिए।
  • पैसे भेजने वाले को या रिमिटर (remitter) इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके अपने घर / काम के स्थान से प्रेषण शुरू कर सकता है
  • लेन-देन शुल्क आरबीआई द्वारा तय किया जाता है नाकि बैंक के द्वारा जो कि छोटा सा शुल्क होता है है।
  • लेन-देन को पूर्णतया क़ानूनी वैधता प्राप्त है।

क्या NEFT प्रणाली RTGS की प्रक्रिया सामान है ?

मूल रूप से दोनों फंड ट्रांसफर के इलेक्ट्रॉनिक तथा रियल टाइम माध्यम है , पर दोनों में अंतर है .

difference between rtgs and neft

एनईएफटी (NEFT) या राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर एक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम है जिसमें किसी विशेष समय तक प्राप्त लेनदेन को बैचों में संसाधित किया जाता है। इसके विपरीत, आरटीजीएस में, लेन-देन को दिन भर में लेनदेन के आधार पर लगातार संसाधित किया जा सकता हैNEFT में अधिकतम सीमा 2 लाख है जबकि RTGS इसके ऊपर फंड भेजने का इलेक्ट्रॉनिक माध्यम है.

क्या RTGS लेनदेन के लिए कोई न्यूनतम / अधिकतम राशि निर्धारित है ?

आरटीजीएस प्रणाली मुख्य रूप से बड़े मूल्य के लेनदेन के लिए है। RTGS के माध्यम से प्रेषित की जाने वाली न्यूनतम राशि 2,00,000 / – है जिसमें कोई ऊपरी या अधिकतम सीमा नहीं है।

जब आपको RTGS करवाना हो तो क्या क्या सूचनाएं बैंक को देनी होती है ?

आपको निम्न सूचनाएं देनी होगी :

  • कितनी राशि भेजी जा रही है मतलब प्रेषित की जाने वाली राशि
  • किस कहते से राशि भेजी जा रही है उसका नंबर (डेबिट किया जाने वाला खाता नंबर )
  • लाभार्थी बैंक और शाखा का नाम
  • प्राप्त शाखा की IFSC संख्या
  • पैसे पाने वाले या रिसीवर ग्राहक का नाम
  • पैसे पाने वाले या रिसीवर ग्राहक की खाता संख्या
  • रिसीवर जानकारी के लिए प्रेषक, यदि कोई हो
facebook group upsc ras adda

RTGS ट्रांसफर के समय क्या क्या सावधानियाँ रखनी चाहिए ?

RTGS का उपयोग करते हुए धन हस्तांतरण लेनदेन के माध्यम से निम्नलिखित सुनिश्चित किया जाना चाहिए

  • यह पता लगा लेना चाहिए की पैसे भेजने वाले और पाने वाले बैंक RTGS नेटवर्क में है या नहीं। इसके लिए IFSC कोड चेक कर लेना चाहिए
  • पैसे पाने वाले या रिसीवर ग्राहक का विवरण, नाम, खाता संख्या और खाता प्रकार, लाभार्थी बैंक शाखा का नाम और IFSC सही होना चाहिए वरना ट्रांसफर अटक सकता है
  • लाभार्थी की खाता संख्या प्रदान करने में अत्यधिक सावधानी बरती जानी चाहिए
core banking solutions

यदि खाते में पैसा न पंहुचा तो क्या ग्राहक को पैसा वापस मिलेगा ?

कभी कभी ऐसा होता है की कुछ गलत सूचनाओं मानवीय या तकनीकी कारणों से फंड अटक सकता है लेकिन इसमें डरे नहीं क्यों की आपका पैसा सदा सुरक्षित रहता है . ऐसा होने पर बैंक द्वारा 1 घण्टे में या दिन की समाप्ति तक फंड ट्रांसफर को रिवर्स कर पैसा वापिस भेजने वाले के खाते में पहुंच जाता है

upscpcsguy

UTR नंबर क्या है?

विशिष्ट लेनदेन संदर्भ (UTR- Unique Transaction Reference, यूटीआर) संख्या एक 22 अक्षरों का कोड है जिसका उपयोग आरटीजीएस प्रणाली में विशिष्ट लेनदेन की पहचान करने के लिए किया जाता है


Disclaimer – लगभग सभी सूचनाएं RBI तथा अधिकृत स्त्रोतों द्वारा ली गयी है, इनके अपडेट हो सकते है अतः अपने बैंक और RBI से सूचनाएं अपडेट करते रहे. तथा फंड ट्रांसफर के समय फिशिंग जैसे कपट (Frauds) से सावधान रहे

राज्यपाल की शक्तियाँ, उसके कार्य [FAQs]

किसी राज्य का राज्यपाल राज्य की कार्यपालिका का प्रमुख तथा उसका सर्वोच्च होता है। परन्तु राज्यपाल राष्ट्रपति की तरह एक नाममात्र का राज्य का प्रमुख होता है। दरअसल कार्यपालिका का असली या वास्तविक प्रमुख राज्य स्तर पर मुख्यमंत्री होता है। फिर भी राजयपाल किसी राज्य के वास्तविक कार्यपालिका के कार्यो के लिए सर्वोच्च प्राधिकारी होता…

Continue Reading राज्यपाल की शक्तियाँ, उसके कार्य [FAQs]

नीलगिरि की इरुला जनजाति की समस्या

भारत की सबसे पुरानी देशी समुदायों में से एक इरुला जनजाति (Irula Tribe) तमिलनाडु और केरल की सीमाओं के साथ रहती है।इरुलेस पारंपरिक हर्बल चिकित्सा और उपचार पद्धतियों के विशेषज्ञ हैं, और इरुला ‘वैद्यारस (किसी भी भारतीय चिकित्सा पद्धति के चिकित्सक) ज्यादातर महिलाएं हैं और पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों का अभ्यास करती हैं जो 320 से…

Continue Reading नीलगिरि की इरुला जनजाति की समस्या

भारत चीन सीमा विवाद को समझे -FAQs

भारत और चीन 2,200 मील की सीमा साझा करते हैं, जिनमें से अधिकांश सुदूर पर्वतीय क्षेत्रों से सटे हुए मार्गों से जाता है। कई क्षेत्रों में, सीमांकन व्याख्या का विषय बनी हुई है, दोनों देशों द्वारा सीमांकन को लेकर कई प्रतिस्पर्धात्मक दावे किए जाते हैं। दशकों से, दोनों देशों ने विवादित सीमा पर शांतिपूर्वक समाधान…

Continue Reading भारत चीन सीमा विवाद को समझे -FAQs

क्या होता है करेंसी स्वैप अरेंजमेंट (CSA)?

करेंसी स्वैप अरेंजमेंट (CSA) शब्द का अर्थ है मुद्रा की अदला बदली या विनिमय। यह कोई दो देशों के बीच एक मुद्रा विनिमय पूर्व निर्धारित नियमों और शर्तों के साथ मुद्राओं का आदान-प्रदान करने के लिए एक समझौता या अनुबंध है।केंद्रीय बैंक और सरकारें अल्पकालिक विदेशी मुद्रा तरलता आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए या…

Continue Reading क्या होता है करेंसी स्वैप अरेंजमेंट (CSA)?

[.com] डॉट कॉम की शुरुआत का इतिहास

जनवरी 1985 में डोमेन सिस्टम शुरू किया गया था, उसके बाद मार्च में पहली बार डॉटकॉम ( .com) आया। 15 मार्च, 1985 इंटरनेट क्रांति का दिन है। इस दिन, पहली बार डॉट कॉम डोमेन पर एक वेबसाइट पंजीकृत की गई थी। इसके बाद इंटरनेट की दुनिया में डॉट-कॉम (.com) की बाढ़ आ गई। इंटरनेट में…

Continue Reading [.com] डॉट कॉम की शुरुआत का इतिहास

हरिपुरा अधिवेशन, 1938 -QnAs

हरिपुरा अधिवेशन, 1938 भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में एक महत्वपूर्ण पड़ाव था , जहाँ कांग्रेस में मज़बूत हो चुकी दो विचारधाराओं ने एक दूसरे को प्रभावित करने का प्रयास किया। यह केवल गाँधी जी और सुभाष के बीच का मुद्दा नहीं था बल्कि देश तथा कांग्रेस आगे जाकर किस नीतियों पर चलेगी इसका एक निर्णय था।…

Continue Reading हरिपुरा अधिवेशन, 1938 -QnAs