क्या उत्तर भारत में बड़ा भूकंप आने वाला है ?

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पिछले डेढ़ महीने में कम से मध्यम तीव्रता के कई भूकंप महसूस किए गए हैं। जानकारों का कहना है कि आने वाले दिनों में इस इलाकों में कोई बड़ा भूकंप आ सकता है। कुछ भूगर्भ वैज्ञानिकों का कहना है कि कम तीव्रता वाले ये भूकंप किसी विनाशकारी भूकंप की आहट हो सकते हैं।

देहरादून स्थित वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के प्रमुख का कहना है कि हम भूंकप के समय, जगह और तीव्रता का अनुमान नहीं लगा सकते हैं लेकिन इतना तय है कि एनसीआर में जमीन के नीचे लगातार भूगर्भीय हलचल हो रही है और इससे दिल्ली में बड़ा भूकंप आ सकता है।

क्यों है परेशानी की बात ?

दिल्ली भूकंप के लिहाज से सबसे संवेदनशील इलाके में है और एनसीआर का इलाका करीब 573 वर्ग मील में फैला है। एनसीआर में करोड़ों लोग रहते हैं। जम्मू आईआईटी के प्रोफेसर चंदन घोष का कहना है कि भूकंप दिल्ली-एनसीआर में भारी तबाही ला सकता है।

उन्होंने कहा, हर कोई जानता है कि दिल्ली जोन-4 में है और यहां भूकंप का खतरा है। इसके बावजूद अधिकांश बिल्डर बीआईएस के मानकों के मुताबिक बिल्डिंग नहीं बनाते हैं। आर्किटेक्ट और बिल्डरों के बीच सांठगांठ है जिससे वे मानकों के साथ समझौता करते हैं। ऐसे में अगर किसी दिन उच्च तीव्रता का भूकंप आया तो इसके विनाशकारी परिणाम होंगे।

ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स (बीआईएस) के मुताबिक एनसीआर में कई बिल्डिंगें भूकंपरोधी मानकों के अनुरूप नहीं बनी हैं। 29 मई को दिल्ली में 4.5 तीव्रता वाला भूकंप आया था। प्रोफेसर घोष ने कहा कि दिल्ली में 6.0 तीव्रता का भूकंप विनाशकारी हो सकता है। ऐसा हुआ तो कई इमारतें जमींदोज हो जाएंगी। पिछले 54 दिनों में दिल्ली और आसपास के इलाके में छह बार भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं। भूकंप का छठा झटका बुधवार को लगा। इसका केंद्र गौतमबुद्ध नगर जिले में नोएडा के 19 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में था। इसकी तीव्रता 3.0 थी।

क्या कहते है एक्सपर्ट्स ?

  • IIT धनबाद के एक्‍सपर्ट्स ने चेताया, आने वाले दिनों में दिल्‍ली-एनसीआर में आ सकता है बड़ा भूकंप
  • प्रफेसर ने कहा, कम तीव्रता वाले झटके बार-बार लगना बड़े भूकंप का संकेत
  • पिछले दो साल में दिल्‍ली-एनसीआर को लगे 64 बार लगे 4-4.9 तीव्रत वाले झटके, 5 से ज्‍यादा वाले आठ बार
  • कांगड़ा और उत्‍तरकाशी से दिल्‍ली की नजदीकी बनी खतरा

विशेषज्ञों में अलग-अलग राय

नैशनल सेंटर ऑफ सिस्मोलॉजी के चीफ (ऑपरेशंस) जी एल गौतम कहते हैं भूकंप जिनकी तीव्रता 4.0 से कम होती है उनसे नुकसान की संभावना बेहद कम होती है। यह हल्की एडजेस्टमेंट का नतीजा है जो खतरनाक नहीं होते। दिल्ली के आसपास ऐसी कोई फॉल्ट प्लेट नहीं है, जिसपर प्रेशर इस समय काफी ज्यादा हो। इसी वजह से इसे सिस्मिक जोन-4 में रखा गया है। नेपाल में आए भूकंप का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि उस तरह के भूकंप उदाहरण है कि हिमालय रीजन में प्रेशर बढ़ रहा है।

भूकंप को लेकर हुई कुछ स्टडी में यह दावा किया गया है कि इस तरह के छोटे भूकंप के झटके बड़े भूकंप की आहट होते हैंअमेरिका की लॉस अलामॉस नैशनल लेबोरेट्री की एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल केलिफॉर्निया में 4.0 तीव्रता के झटकों से पहले इसी तरह के कुछ हल्के झटके महसूस किए गए थे। साउथ केलिफॉर्निया में 2008 और 2017 में 4.0 तीव्रता से अधिक के झटके महसूस किए गए। इनमें से 72 फीसदी बार इन भूकंप से पहले हल्के झटके महसूस किए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *