एक नीले रंग की पृष्ठभूमि के ध्वज में 12 सुनहरे तारे तारो का युरोपियन यूनियन (European Union) अब तक का सबसे सफल एकीकरण का विचार या प्रयोग रहा है , जिसने वैश्विक रूप में कई देशों को आपसी संघर्षो को छोड़ कर विकसित होने की प्रेरणा दी है। साम्यवाद, युद्ध के खतरे से बचने और शांति स्थापित करने के लिए यूरोप में एक होने की भावना से लेकर आज तक युरोपियन यूनियन काफी बदल चुका है.

तो चलिए देखते है की यह कैसे काम करता है और बहुत कुछ..

रेटिंग आर्टिकल की उपयोगिता को बताते है जो विभिन्न यूजर ने दिए है

यूरोपियन यूनियन क्या है ?

यूरोपीय संघ (European Union) वर्तमान में 27 सदस्य देशों का संघ है, ये देश हैं – ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बुल्गारिया, क्रोएशिया, साइप्रस, चेक गणराज्य, डेनमार्क, एस्टोनिया, फिनलैंड, फ्रांस, ग्रीस, जर्मनी, हंगरी, आयरलैंड, इटली, लातविया, लिथुआनिया , लक्समबर्ग, माल्टा, नीदरलैंड, पोलैंड, पुर्तगाल, रोमानिया, स्लोवाकिया, स्लोवेनिया, स्पेन और स्वीडन ( 2 फ़रवरी 2021 तक)

इसका स्वरूप कैसा है ?

युरोपियन संघ ( European Union ) एक आर्थिक और राजनीतिक एकीकृत संगठन है। इसके साथ साथ यह सामाजिक और विज्ञान-तकनीक के लिए भी एकीकृत हो कर कार्य करता है . एक तरह से यह पुरे यूरोप के लिए एक सरकार की तरह कार्य करता है , यद्यपि यह सरकार नहीं है

यूरोपीय संघ का गठन क्यों किया गया था ?

द्वितीय विश्व युद्ध में यूरोप ने अपूरणीय क्षति झेली थी, जनसँख्या तथा संसाधनों का बड़ा हिस्सा खोया जा चूका था। ऐसे में भविष्य में किसी युद्ध से बचने तथा लम्बी शांति स्थापित करने के लिए यूरोपीय संघ (European Union) का सपना देखा गया

यूरोप को एक करने का दर्शन या विचार क्या था ?

पूरे यूरोप को आर्थिक तथा राजनीतिक संकटों से बचाना था , असीम बेरोजगारी, महगाई, युद्ध का संकट से बचने के लिए पहले आर्थिक समृद्धि के विचार के सहारे राजनीतिक एकीकरण का रास्ता अपनाया गया, इसलिए राजनीतिक एकीकरण से पहले आर्थिक एकीकरण का विचार बेहद सफल रहा।

इसने न केवल यूरोप में शांति स्थापित की बल्कि यूरोप को एक बेहद विकसित तथा स्वतंत्र मानवीय अधिकारों वाला एक विचार बना दिया. यह बेहद प्रेरणादायी था |

European union kya hai
source – Wikipedia

इसका क्या इतिहास रहा है ?

द्वितीय विश्व युद्ध के अंत के बाद से, यूरोपीय देशों ने संधियों के दौर में प्रवेश किया और इस तरह यूरोपीय एकीकरण या यूरोप के निर्माण सामंजस्यपूर्ण नीतियों के कारण यूरोपीय संघ (ईयू) की कानूनी स्थापना का मार्ग बना, यूरोपीय संघ को यूरोपीय कम्युनिटीज़ (ईसी) से अपनी कई जिम्मेदारियां विरासत में मिलीं, जिनकी स्थापना 1950 के दशक में शुमान घोषणा ( Schuman Declaration) की भावना से की गई थी।

इसकी टाइम लाइन इस प्रकार है

  • 1952 यूरोपीय कोल एवं स्टील कम्युनिटी (European Coal and Steel Community – ECSC) की स्थापना – पेरिस संधि के तहत 6 देशों (बेल्जियम, फ्राँस , जर्मनी, इटली, लक्जमबर्ग और नीदरलैंड) नेअपने कोयला और इस्पात उत्पादन को एक आम बाज़ार (Common Market ) में परिवर्तित कर दिया, जिस से ECSC की जन्म हुआ
  • 1957- यूरोटॉम की स्थापना – यूरोप में परमाणु ऊर्जा के उपयोग बढ़ाने तथा तकनीकी रूप में यूरोप को एक करने के लिए यूरेटोम संधि (1957) की गयी जिस से यूरोपीय परमाणु ऊर्जा समुदाय (EAEC या Euratom) स्थापित हुआ।
  • 1957 की रोम संधि – जिससे यूरोपीय आर्थिक समुदाय (European Economic Community – EEC) की स्थापना हुई
  • 1965, ब्रुसेल्स – तीन समुदायों (ECSC, EAEC और EEC) को मिला कर एक कर दिया गया, इससे यूरोपीय समुदाय (European Community- EC ) का नाम दिया गया
  • 1973-86 तक युरोपियन समुदाय का विस्तार हुआ जिसमे कई देश यूरोपीय देश इसके सदस्य बन गए जैसे 1973 में डेनमार्क, आयरलैंड, यूनाइटेड किंगडम , 1981 में ग्रीस तथा वर्ष 1986 में पुर्तगाल और स्पेन इसमें शामिल हुए। 
  • 1985 में शेंगेन समझौता (Schengen Agreement) – जिसके तहत अधिकांश सदस्य राज्यों के मध्य बिना पासपोर्ट नियंत्रण के आवाजाही तथा खुली सीमाओं का समझौता हुआ परन्तु इसे 1995 में लागु किया जा सका
  • 1986 में सिंगल यूरोपीय अधिनियमएक कॉमन यूरोपीय मुद्रा एवं साझा विदेशी तथा घरेलू नीतियों की स्थापना। 
  • 1992 में मास्ट्रिच संधि – इस से आधिकारिक युरोपियन संघ की स्थापना हुई, इसने एक अलग यूरोपीय मुद्रा ‘यूरो’ के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया ।
  • 2007 में लिस्बन समझौते पर हस्ताक्षर
timeline of European union, eu kya hai
European union, Lisbon decision
2007 में लिस्बन समझौते पर हस्ताक्षर के बाद यूरोपियन संघ के नेतागण

युरोपियन यूनियन की संरचना कैसी है ?

युरोपियन संघ (European Union – EU) के विस्तृत कार्य है. यह यूरोप के साथ साथ अंतर्राष्ट्रीय रूप से एकीकृत होकर नेतृत्व करता है. इसके लिए यह कई संस्थाओ और विभागों में बंटा हुआ है, यह निम्न रूप में है –

  • यूरोपीय संसद (European Parliament)
  • यूरोपीय संघ (European Council)
  • यूरोपीय संघ की परिषद (Council of the European Union)
  • यूरोपीय आयोग (European Commission)
  • यूरोपीय संघ के न्यायालय (Court of Justice of the European Union -CJEU)
  • यूरोपीय सेंट्रल बैंक (European Central Bank -ECB)
  • यूरोपीय न्यायालय के लेखा परीक्षक (European Court of Auditors -ECA)
  • यूरोपीय बाहरी कार्रवाई सेवा (European External Action Service- EEAS)
  • यूरोपीय आर्थिक और सामाजिक समिति (European Economic and Social Committee-EESC)
  • क्षेत्र की यूरोपीय समिति (European Committee of the Regions -CoR)
  • यूरोपीय निवेश बैंक (European Investment Bank -EIB)
  • यूरोपीय लोकपाल (European Ombudsman)
  • यूरोपीय डेटा संरक्षण पर्यवेक्षक (European Data Protection Supervisor -EDPS)
  • यूरोपीय डेटा संरक्षण बोर्ड (European Data Protection Board -EDPB)
  • अंतर्संस्थानिक निकाय (Interinstitutional bodies)

यूरोपीय संघ के मुख्य उद्देश्य क्या हैं ?

  • यूरोप में सभी लोगों के लिए शांति और समृद्धि
  • आर्थिक और मौद्रिक संघ
  • साझा यूरोपीय संघ के मूल्यों को बढ़ावा देना: मानवीय गरिमा, स्वतंत्रता, लोकतंत्र, समानता, कानून का शासन और मानवाधिकार
  • आंतरिक सीमाओं के भीतर स्वतंत्रता और सुरक्षा
  • सदस्य देशों के बीच आर्थिक, सामाजिक और क्षेत्रीय सामंजस्य और एकजुटता।

यूरोपीय संघ (ईयू) कैसे काम करता है ?

यूरोपीय संघ का निर्माण बाध्यकारी संधियों की एक श्रृंखला के माध्यम से किया गया है। यह आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर आम नीतियों को अपनाता है।
सामान्य कृषि नीति, सीमा शुल्क संघ,एक सामान्य वाणिज्यिक नीति, एक एकल बाजार जिसमें पूंजी, माल, सेवाएं और लोग स्वतंत्र रूप से चलते हैं, एकल आम नीतियाँ है-

  • 19 यूरोपीय संघ के सदस्य राष्ट्र एक सामान्य मुद्रा (यूरो) का उपयोग करते हैं
  • शेंगेन क्षेत्र में जहां आंतरिक सीमा नियंत्रण को समाप्त कर दिया गया है।
  • एक सामान्य विदेश और सुरक्षा नीति (सीएफएसपी) जिसमें एक सामान्य सुरक्षा और रक्षा नीति (सीएसडीपी) शामिल है
  • सामान्य आंतरिक सुरक्षा उपायों को बनाने के लिए न्याय और गृह मामलों (JHA) के क्षेत्र में सहयोग।
  • सदस्य देश नीतियों को निर्धारित करने और अपने सामूहिक हितों को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न यूरोपीय संघ के संस्थानों के माध्यम से एक साथ काम करते हैं।

यूरोपीय संघ की उपलब्धियाँ क्या है ?

यूरोपीय संघ इतिहास की सबसे बड़ी शांति परियोजना साबित हुई हैइसके नागरिक कई स्वतंत्रता का आनंद लेते हैं। उदाहरण के लिए, सभी सदस्य राज्यों में रहने, काम करने या अध्ययन करने की स्वतंत्रता, साथ ही साथ मुक्त पूंजी बाजार के लाभों से व्यापार या लाभ भी शामिल हैं। इसके अलावा, यूरोपीय संघ खाद्य सुरक्षा और उपभोक्ता संरक्षण की गारंटी देता है और क्षेत्रीय बुनियादी ढांचे के विकास को बढ़ावा देता है।

ईयू (European Union) को कौन नियंत्रित करता है ?

ब्रसेल्स में एक बड़ी नौकरशाही व्यवस्था है जो जटिल कानूनों के बारे में सोचता है ! जब आप सुनते हैं “ब्रसेल्स ने फैसला किया है”, तो इसका मतलब है कि सभी यूरोपीय संघ के सदस्य राज्यों ने एक संयुक्त निर्णय लिया है।

सामान्य विधायी प्रक्रिया के तहत, यूरोपीय आयोग द्वारा नए कानूनों के प्रस्तावों का मसौदा तैयार किया जाता है। इसके बाद यूरोपीय संसद द्वारा निर्णय लिया जाता है, जिसे सीधे यूरोपीय संघ के नागरिकों, साथ ही साथ मंत्रिपरिषद द्वारा चुना गया है, जिसमें सदस्य राज्यों के मंत्रियों का प्रतिनिधित्व किया जाता है।

कौन से देश यूरो का उपयोग करते हैं ?

वर्तमान में, यूरो (€) 27 यूरोपीय संघ के सदस्य देशों में से 19 की आधिकारिक मुद्रा है जो एक साथ यूरोज़ोन का गठन करते हैं, आधिकारिक तौर पर यूरो क्षेत्र कहा जाता है।

यूरो, सामान्य मुद्रा, यूरोपीय संघ के 19 राज्यों में विनिमय का आधिकारिक साधन है। यूरोजोन के सदस्य ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, साइप्रस, एस्टोनिया, फिनलैंड, फ्रांस, ग्रीस, जर्मनी, आयरलैंड, इटली, लातविया, लिथुआनिया, लक्जमबर्ग, माल्टा, नीदरलैंड्स, पुर्तगाल, स्लोवाकिया, स्लोवेनिया और स्पेन ( 2 फ़रवरी 2021 तक) हैं।

यूरोज़ोन क्या है ?

यूरोज़ोन, युरोपियन यूनियन के वो सदस्य देश है जहाँ यूरो एक कॉमन मुद्रा प्रणाली है. सभी वित्तीय लेन देन यूरो में होते है। कमोबेश यहाँ एकल वित्तीय नीतियाँ भी हैं। यह एक ट्रेड ब्लॉक की तरह काम करता है.

शुरुआत में यूरोज़ोन का निर्माण 15सदस्य देशो ने इसे 1999 में अपना कर किया। अब यूरोज़ोन में 19 देश है जहा यूरो एकल मुद्रा के रूप में उपयोग की जा रही है (Till Feb 2021)

शेंगेन क्षेत्र (Schengen Area) क्या है ?

1985 में शेंगेन समझौता (Schengen Agreement) हुआ जिसके तहत अधिकांश सदस्य राज्यों के मध्य बिना पासपोर्ट नियंत्रण के आवाजाही तथा खुली सीमाओं का समझौता हुआ परन्तु इसे 1995 में लागु किया जा सका. परन्तु इसने विवादों को भी जन्म दिया है जिस से ब्रेक्सिट की प्रक्रिया तेज़ हुई है.

शेंगेन एरिया, एक ऐसे क्षेत्र का प्रतीक है जहां 26 यूरोपीय देशों ने (till Feb,2021), अपनी आंतरिक सीमाओं को समाप्त कर दिया, लोगों की स्वतंत्र और अप्रतिबंधित आवाजाही के लिए, बाहरी सीमाओं को नियंत्रित करने और सामान्य न्यायिक प्रणाली और पुलिस सहयोग को मजबूत करके आपराधिक लड़ाई से निपटने के लिए सामंजस्य स्थापित किया।

शेंगेन क्षेत्र आयरलैंड को छोड़कर अधिकांश यूरोपीय संघ के देशों को कवर करता है.

ऐसा लगता है की जल्दी ही इसका विस्तार होगा और इसका हिस्सा बनने वाले हैं: रोमानिया, बुल्गारिया, क्रोएशिया और साइप्रस हालांकि ये सब देश यूरोपीय संघ के सदस्य नहीं हैं.

नॉर्वे, आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और लिचेंस्टीन भी शेंगेन क्षेत्र का हिस्सा हैं।

यूरोपीय संघ के झंडे पर 12 सितारे क्यों हैं ?

एक नीले रंग की पृष्ठभूमि के ध्वज में 12 सुनहरे तारे हैं क्योंकि संख्या बारह पूर्णता और एकता का प्रतीक माना जाता है। इसलिए यूरोप के लोगों के बीच एकता, एकजुटता और सद्भाव का प्रतिनिधित्व करते हुए, यूरोपीय झंडे पर एक चक्र में 12 सितारे लगाने का निर्णय लिया गया। यूरोपीय ध्वज शुरू में 1955 से यूरोप परिषद का ध्वज था। यह 1985 में यूरोपीय संघ के संस्थानों के लिए प्रतीक बन गया।

flag of  European union, eu kya hai

हालाँकि, कई लोग मानते हैं कि सितारे सदस्य राष्ट्रों का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं, क्योंकि यूरोपीय संघ की स्थापना के बाद से उनकी संख्या में लगातार वृद्धि हुई है। बारह का कई संस्कृतियों में प्रतीकात्मक अर्थ है और अक्सर पूर्णता से लिया जाता है है।

ब्रेक्सिट क्या है ?

ब्रेक्सिट युरोपियन यूनियन में एक विखण्डन पैदा किया है। जिसका अर्थ है की इसकी सदस्यता को त्याग कर पुनः अपनी नीतियों पर चलना.क्योकि यूरोप के कई देश आत्मनिर्भर निर्णय नहीं ले पा रहे थे। इस से ब्रिटैन जैसे देशो को वित्तीय और सामरिक संप्रभु निर्णय लेने में दिक्कत आ रही थी. अतः ब्रिटेन ने इसकी सदस्यता त्याग दी।

युरोपियन यूनियन के रोचक तथ्य क्या है ?

  • यह एक राजनीतिक और आर्थिक संगठन है जो पुरे यूरोप के लिए बना है
  • परन्तु इसमें सारे युरोपियन देश नहीं है
  • सभी सदस्य देश युरोपियन यूनियन के हिस्से के रूप में कार्य करते है परन्तु वे अपने देश के महत्वपूर्ण मामलो में संप्रभु है
  • यह एक बाजार भी है
  • यूरो एक कॉमन मुद्रा है जिसे यूरोज़ोन में मान्यता प्राप्त है , परन्तु यूरो एक शक्तिशाली अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा के रूप में भी काम आती है
  • 2012 में इसे शांति और मानवाधिकारों के लिए शांति का नोबेल पुरुस्कार भी मिल चूका है
******हमें रेटिंग दे, ये हमें और बेहतर बनाता है*****
————————————————————————-
facebook group upsc ras adda
upscpcsguy

राज्यपाल की शक्तियाँ, उसके कार्य [FAQs]

किसी राज्य का राज्यपाल राज्य की कार्यपालिका का प्रमुख तथा उसका सर्वोच्च होता है। परन्तु राज्यपाल राष्ट्रपति की तरह एक नाममात्र का राज्य का प्रमुख होता है। दरअसल कार्यपालिका का असली या वास्तविक प्रमुख राज्य स्तर पर मुख्यमंत्री होता है। फिर भी राजयपाल किसी राज्य के वास्तविक कार्यपालिका के कार्यो के लिए सर्वोच्च प्राधिकारी होता…

Continue Reading राज्यपाल की शक्तियाँ, उसके कार्य [FAQs]

नीलगिरि की इरुला जनजाति की समस्या

भारत की सबसे पुरानी देशी समुदायों में से एक इरुला जनजाति (Irula Tribe) तमिलनाडु और केरल की सीमाओं के साथ रहती है।इरुलेस पारंपरिक हर्बल चिकित्सा और उपचार पद्धतियों के विशेषज्ञ हैं, और इरुला ‘वैद्यारस (किसी भी भारतीय चिकित्सा पद्धति के चिकित्सक) ज्यादातर महिलाएं हैं और पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों का अभ्यास करती हैं जो 320 से…

Continue Reading नीलगिरि की इरुला जनजाति की समस्या

भारत चीन सीमा विवाद को समझे -FAQs

भारत और चीन 2,200 मील की सीमा साझा करते हैं, जिनमें से अधिकांश सुदूर पर्वतीय क्षेत्रों से सटे हुए मार्गों से जाता है। कई क्षेत्रों में, सीमांकन व्याख्या का विषय बनी हुई है, दोनों देशों द्वारा सीमांकन को लेकर कई प्रतिस्पर्धात्मक दावे किए जाते हैं। दशकों से, दोनों देशों ने विवादित सीमा पर शांतिपूर्वक समाधान…

Continue Reading भारत चीन सीमा विवाद को समझे -FAQs

क्या होता है करेंसी स्वैप अरेंजमेंट (CSA)?

करेंसी स्वैप अरेंजमेंट (CSA) शब्द का अर्थ है मुद्रा की अदला बदली या विनिमय। यह कोई दो देशों के बीच एक मुद्रा विनिमय पूर्व निर्धारित नियमों और शर्तों के साथ मुद्राओं का आदान-प्रदान करने के लिए एक समझौता या अनुबंध है।केंद्रीय बैंक और सरकारें अल्पकालिक विदेशी मुद्रा तरलता आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए या…

Continue Reading क्या होता है करेंसी स्वैप अरेंजमेंट (CSA)?

[.com] डॉट कॉम की शुरुआत का इतिहास

जनवरी 1985 में डोमेन सिस्टम शुरू किया गया था, उसके बाद मार्च में पहली बार डॉटकॉम ( .com) आया। 15 मार्च, 1985 इंटरनेट क्रांति का दिन है। इस दिन, पहली बार डॉट कॉम डोमेन पर एक वेबसाइट पंजीकृत की गई थी। इसके बाद इंटरनेट की दुनिया में डॉट-कॉम (.com) की बाढ़ आ गई। इंटरनेट में…

Continue Reading [.com] डॉट कॉम की शुरुआत का इतिहास

हरिपुरा अधिवेशन, 1938 -QnAs

हरिपुरा अधिवेशन, 1938 भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में एक महत्वपूर्ण पड़ाव था , जहाँ कांग्रेस में मज़बूत हो चुकी दो विचारधाराओं ने एक दूसरे को प्रभावित करने का प्रयास किया। यह केवल गाँधी जी और सुभाष के बीच का मुद्दा नहीं था बल्कि देश तथा कांग्रेस आगे जाकर किस नीतियों पर चलेगी इसका एक निर्णय था।…

Continue Reading हरिपुरा अधिवेशन, 1938 -QnAs