काजिन सारा झील की खोज क्यों महत्वपूर्ण है ?

 

नेपाल में मनांग जिले में एक नई झील मिली है। मीडिया रिपोर्टों में, इस काजीन सारा झील को दुनिया की सबसे ऊंची झील बताया गया है। हालांकि, वर्तमान में दुनिया की सबसे ऊंची झील मनांग में है, जिसे तिलिचो कहा जाता है।

‘हिमालयन टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, यह झील मनांग के चामे ग्रामीण नगरपालिका में सिंगारखरका में 5,200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

चामे ग्रामीण नगरपालिका के अध्यक्ष लोकेंद्र घाले के अनुसार, इस झील की खोज कुछ महीने पहले ही पर्वतारोहियों की एक टीम ने की थी। घाले ने बताया, ‘टीम द्वारा ली गई झील की माप के अनुसार, यह 5,200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

Please Support Us on YouTube
Javascript open link without click
Please Support Us On YouTube

हालांकि अभी इसे आधिकारिक तौर पर सत्यापित किया जाना बाकी है। इसके 1,500 मीटर लंबी और 600 मीटर चौड़ी होने का अनुमान है।’

अगर आधिकारिक तौर पर इसकी ऊंचाई 5000 मीटर से अधिक होती है तो यह विश्व की सबसे ऊंची झील होगी।’ हिमालयन टाइम्स रिपोर्ट के अनुसार, इस झील को स्थानीय लोग सिंगार कहते हैं। इसका निर्माण हिमालय की पिघली बर्फ से हुआ है। यहां चामे के मनांग जिला मुख्यालय से 18 घंटे की चढ़ाई के बाद पहुंचा जा सकता है।

यह चामे से 24 किलोमीटर दूर है। वहीं नगरपालिका अधिकारियों को उम्मीद है कि नई झील को दुनिया की सबसे ऊंची झील घोषित किए जाने के बाद जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

Please Support Us on YouTube