ब्रू समुदाय मिज़ोरम का सबसे बड़ा अल्‍पसंख्‍यक आदिवासी समूह है। ब्रू आदिवासी समुदाय के क़रीब 35 हज़ार सदस्य त्रिपुरा में पिछले 23 सालों से शरणार्थी के रूप में रह रहे हैं। इस जनजातीय समूह के सदस्य म्‍यांमार के शान प्रांत के पहाड़ी इलाके के मूल निवासी हैं जो कुछ सदियों पहले म्यांमार से आकर मिज़ोरम में बस गए थे।

मिज़ोरम की बहुसंख्यक मिज़ो जनजाति इन्हें ‘बाहरी’ मानती है। ब्रू समुदाय और बहुसंख्यक मिज़ो समुदाय से स्वायत्त ज़िला परिषद के मुद्दे पर ख़ूनी संघर्ष के बाद अक्तूबर 1997 में ब्रू जनजाति की लगभग आधी आबादी पलायन कर त्रिपुरा में रहने लगी।

क्यों खबरों में थे ?

त्रिपुरा के गैर-ब्रू समुदाय ने मिजोरम से विस्थापित ब्रू समुदाय को बसाने के लिए छः स्थानों का प्रस्ताव दिया है। ये स्थान हैं, कंसारीपुर उपखंड में बांदरिमा-पुष्पोरापारा, सचान हिल्स, चाईगढ़पुर, सुबलबाड़ी, कलारंबरी-बंदरिमा और पनिसागर उपखंड में कुकिनाला।

बंगाली, मिजो के साथ उत्तरी त्रिपुरा जिले के कंचनपुर और पनीसागर उपखंडों के और अन्य स्वदेशी जनजाति लोगों की संयुक्त आंदोलन समिति (जेएमसी) ने 21 जुलाई को राज्य सरकार को एक ज्ञापन प्रस्तुत किया था। इसमें छह स्थानों की पहचान की गई और प्रस्तावित किया गया कि इन स्थानों पर 500 परिवारों को बसाया जाए।

सरकार द्वारा किए गये प्रयास

ब्रू जनजाति की वापसी के लिए केंद्र, मिजोरम और त्रिपुरा सरकार के मध्य कई दौर की बातचीत हुई है। वर्ष 2010 में पहली बार लगभग 1600 परिवारों के साढ़े आठ हजार ब्रू लोगों को वापस मिजोरम बसाया गया लेकिन मिजो समूहों के विरोद्ध के पश्चात इस पर आगे कार्य नहीं हो सका।

वर्ष 2018 में केन्द्र सरकार द्वारा एक समझौते का ऐलान किया गया जिसमें केन्द्र सरकार, मिजोरम सरकार और मिजोरम ब्रू डिस्प्लेस्ड पीपल्स फोरम (MBDPF) सम्मिलित थे। इसमें 5,407 ब्रू परिवारों के 32,876 लोगों के लिए 435 करोड़ का राहत पैकेज देने की घोषणा की गई थी।

इसके साथ ही हर ब्रू परिवार को 4 लाख रूपये की एफ डी, 1.5 लाख रूपये घर बसाने के लिए, 2 साल के लिए निशुल्क राशन और हर महीने 5 हजार रूपये का प्रावधान किया गया था। इसके अतिरिक्त त्रिपुरा से मिजोरम जाने के लिए निशुल्क ट्रांसपोर्ट, पढ़ाई के लिए एकलव्य स्कूल तथा वोट देने का अधिकार भी देने की बात की गई थी।

वर्ष 2020 में केन्द्र सरकार और ब्रू जनजातियों के प्रतिनिधियों के द्वारा त्रिपुरा में लगभग 30,000 ब्रू शरणार्थियों को बसाया जाएगा इसके लिए 600 करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया गया है। समझौते के ब्रू शरणार्थियों को 2 साल के लिए 5000 रुपए प्रति माह की नकद सहायता, दो साल तक मुफ्त राशन, 4 लाख रुपए की फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) के साथ 40 से 30 फुट का प्लॉट के साथ उन्हें वोटर लिस्ट में भी जल्द शामिल किया जाएगा।